I am born in a middle class farmer family in vill. Rela in 1997. My primary education in kathumar. And now in alwar for graduation (B.Sc.)

more

Kavi Pravesh chaudhary Poems

Kavi Pravesh chaudhary Quotes

लगाए जाते हैं इल्जाम चँद पंक्तियों मे कर लेते हैं फैसला चँद पंक्तियों में हिलते है जो पत्ते बिन हवा के रुक जाते हैं वो भी चँद पंक्तिये में ।
By kavi pravesh chaudhary rela
वो दोस्त भी शायद कोई और होंगे, उनकी भी अपनी कोई दुनिया होगी जो हमें पराया समझ बैठे, वरना ऐ मतलबी दोसेत मेरा हर अपना मुझे आज भी अपना समझता है ।
दोस्ती

Comments about Kavi Pravesh chaudhary

There is no comment submitted by members.