EVT ( / )

चाहे जितनी फब्तियाँ कस लो...

चाहे जितनी फब्तियाँ कस लो, मुझे ना चाहने वालों,
मेरी तकदीर को उसने कुछ इस तरह से लिखा है;
कि गिरता हूँ, फिर गिरता हूँ, और गिर के जब उठता हूँ,
ऊफनते से भँवर में भी, पुरी मस्ती से चलता हूँ...

by Er Vikas Tripathi

Comments (0)

There is no comment submitted by members.