Poem Hunter
Poems
सिरि मोन्दों आं
(2 November 1995- / Amteka (Chirang) /Assam, India)

सिरि मोन्दों आं

Poem By Ronjoy Brahma

लासैयै ओंखार बोनाय साननि सोरां रोदाजों
आलायारन नुजाबोदों बेजोंनो
मोनसे हादोर दावबायनो
मिनि खुसि आगान फोलावदों आं

दुब्रि बिलाइनि दै गास्रिबोना
सुदेम बारखौ बिखायाव गोबानानै
खासि बिलाइनि दैजों
देहायाव गोजोनग्सालायनाय सान्ति सारै सारै

बेबादिनो जग्रबसे सुज्राय अरनखौ
बारबोबाय आं

दाउसा मोख्रेबखौ नुसि नुसि
बिनि आन्दो सेर सेर
खोनासै जोबोद सिरि सिरि

ओजों मालाय
सान ओंखारनायखौ नुनानै
थक थक- घन्टा बुदोंमोन
बाथा एंखोरबारिनि बाथ' थखा

जग्रबसे गराय गांसोनि
खोमा थिया थोंगोर थोंगोर
सेसा दामब्राया सिरि मोनलायजासे

सिरि मोन्दों आंबो
खासि बिलाइजों हायब्रा जाना
खुदुना सुखौ नुवा नुस्लाबा गासनफ्लांनानै

बेखायनो हाथर्खि आरो अखाफोर
सान हरनि बिलिरनायाव
सिमां एरायना बाग्दाव खांदों गावनो

मिथिगौ सनायानो जा
दाउदैबादिसो बे बैसोआ लाइमोननि

जोबोद गिलिर मोनसै आं बेखायनो
नोंनि थाखाय आंनि जोनोम बे फंसे रावखौनो बुंनो
अब्लाबाबो नोंखौ मोजां मोनालासे थानो माबोरै?
बिखाखौ मैला फोनांनो हाया आं

User Rating: 4,8 / 5 ( 4 votes ) 1

Maya Angelou

Phenomenal Woman

Comments (1)

Good work.


Comments