(28/08/1964 / new delhi)

शुभ नवरात्रि

कष्टो को दूर करने की राह है|
सच्चे दिल वालो की पुकार है|
विशवास की ज्योत है|
इच्छा पूर्ति करने वाली माँ का द्वार है|

द्वार जो सदकर्मो के लिए प्रेरणा है|
प्रेरणा जो विशवास उत्तपन्न कर दे|
विशवास जो सही गलत का अन्तर बता दे|
अन्तर जो दिलो की दूरी मिटा दे|


अहम को मिटा दे प्रेम तो जाग्रत कर दे|
मॉ का द्वार है प्यार से बोलो दिल से बोलो|

शुभ नवरात्रि

by Ajay Srivastava

Comments (0)

There is no comment submitted by members.