शोर मची है है हंगामा हिन्दू मुस्लिम कहते हैं

शोर मची है है हंगामा हिन्दू मुस्लिम कहते हैं
ढोंगी मदारी गिरगिट जैसे लोग यहाँ भी रहते हैं

जिन्होंने अपनी बीवी को भी इज़्ज़त ना सम्मान दिया
ऐसे लोग महिलाओं के हक़ की बातें करते हैं



हम अहले ईमान हमारी ये पहचान शरीअत है
जीने का हर तौर तरीक़ा अमल ईमान शरीअत है

ये जुरअत तरमीम की तेरी जान मेरी लेसकती है
दख़्ल शरीअत में हरगिज़ मंज़ूर नहीं करसकते हैं

By: नादिर हसनैन

by NADIR HASNAIN

Comments (3)

हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे और राष्ट्रीय एकता के संदर्भ में बहुत सुन्दर उद्गार. धन्यवाद नादिर जी.
Kya baat hai.....Wohi baat karte hain jo kuch karte hi nahi...10++
waahhhhhhhhhh kitni khoobsurati se karwe sach ko likh diya... dheron daad. likhte rahein.10+++