अपने अपने आसमान

Poem By Kezia Kezia

अपने अपने आसमान हैं

अपने अपने अभिमान हैं

इनके बीच में जकड़े

हमारे और तुम्हारे सवाल हैं

अपने अपने आगाज़ हैं

अपने अपने अंजाम हैं

इनके बीच में जमे हुए

हम और तुम कैसे अनजान हैं

अपने अपने आफ़ताब हैं

अपने अपने माहताब हैं

इनके बीच में टूटते हुए

हमारे और तुम्हारे ख्वाब हैं

अपने अपने सवाल हैं

अपने अपने जवाब हैं

इनके बीच में सिमटे हुए

हमारे और तुम्हारे हिसाब हैं

अपने अपने पहरे हैं

भ्रम के पाँव सुनहरे है

पीड़ को कोई सुन न सके

जाना कि सारे बहरे हैं

***

Comments about अपने अपने आसमान

बेहरो की बस्ती हैं जनाब, फिर तोड़ देते हैं तुम्हारा ख्वाब।। और पूछते हैं कैसा हैं तुम्हारा शबाब, बचके रहना यह कर देते हैं तुम्हारा दिमाग खराब।। एक बेहतरीन कविता एक बहुत बेहतरीन कवियित्री के द्वारा 100++
Nisandeh aapne aapne simane hai Par phir bhi hum ek jaise hai Kuch khamiyon ke sath To kuch gunoo ke haanth Zindagi nibha rahe hai Karke hausele bulandh.. Bahut umda rachna aur sooch hai aapki. Dhanyawad.
आपकी कवितायेँ वाक़ई दिल को छु जाती है, ऐसा अक्सर होता नहीं पर आपके साथ हो जा रहा है, बहुत खूब धन्यवाद, सरल शब्दों में बड़ी बात कह जाने का कमल है आपकी नज़्म में....100 Stars Char lines hamari taraf se... अपनी अपनी नज़्म है अपने अपने जज़्बात हैं इन दोनों के बीच सजे ज़िन्दगी के एहसासात हैं


5,0 out of 5
3 total ratings

Other poems of KEZIA

तू दिन और मैं रात

गर तू दिन है,

और मैं रात।

ये वक़्त है साहब

ये वक़्त है साहब

हर क्षण बदलता रहता है

आ फिर ठहर जायें

आ फिर ठहर जायें

उस सुनहरी शाम पर

बेवजह सी एक वजह

बेवजह सी एक वजह है,

तुम तक ठहर जाने की।

कितनी परतें

कितनी परतें जिंदगी की

अभी बाकी है उधड़नी

एक तुम हो

एक तुम हो,

जो जाकर आते नहीं।

Robert Frost

Stopping By Woods On A Snowy Evening