"बदरंग मानवता"

Poem By vijay gupta

"बदरंग मानवता"

पूरब से निकलकर पश्चिम में छिप जाना,
शगल तुम्हारा हो गया है।
धरती को अंधेरे में डूबोना
सूरज की आदत में शुमार हो गया है,
नाराज हो या दयावान
नहीं जानता मैं?
लगता है तुम चाहते हो-
बच्चे अपनी माँ के आँचल में छिप जायें,
माली झोपड़ी में चला जाये,
पिता अपने बच्चों को दुलारे,
पक्षीगण नीड पर चले जायें,
धरती का ये हिस्सा,
पूर्ण विश्राम को प्राप्त हो,
परंतु ये क्या?
मानव तो विकास अंधी दौड़ में,
बेतहाशा भाग रहा है,
ना दिन की परवाह,
ना रात की फिक्र,
उसे तो चाहिए
सिर्फ और सिर्फ काम ही काम।
रात के आगोश में भी
वो कारखाने चलाता है,
खदानें खोदता है,
कंप्यूटर में आंखें गड़ाये रहता है,
पैसे के लिए हो जो भी संभव
वो कृतय करता है,
उसकी मजबूरी भी है
गरीबी से लड़ना,
अशिक्षा से लड़ना,
बिमारियों से लड़ना,
प्राकृतिक आपदओं से लड़ना,
युद्ध ग्रस्त माहौल को सहना,
मगर है सब भयावह।

Comments about "बदरंग मानवता"

There is no comment submitted by members.


5 out of 5
0 total ratings

Other poems of GUPTA

Street Children

Street children
Ask from such a person
Who has no roof over his head?
Ask from such a person

Am I Insane?

Am I insane?
They were eating, drinking and dancing on the floor.
Unfortunately I was there.
A newspaper having horrible news was in my hand.

“bound To Work”

“Bound to work”
She was ailing with pain.
Work speed was some slow still then she was working.
Why?

Arrow & Oak Tree

Arrow & oak tree
“I shot an arrow in the universe but where it goes I don’t know later
I found it in an oak tree.”
Sir long fallow,

Arrogant Words

Arrogant words
I have passed enough time in the shadow of arrows.
They hurt me
but I am alive.

Angel Devil & The Man

Angel devil & the man
Do.
Do not do.
Botherations always live in our mind.

Rudyard Kipling

If