कांग्रेसीयों-भाजपाईयों के लिये

कांग्रेसीयों के लिये: -

लिजीये साहब आप रिहा हो गये
2-जी का कलंक आपके माथे से अलविदा हो गये
चलो ये सब तो ठीक है, मगर उसका क्या करोगे
जिस कोयला के धुऑ से मुँह काला हो गये

भाजपाईयों के लिये: -


ढोल, तांसे चाहे नगाड़ा बजाईये
जांच चाहे फिर से दोबारा कराईये
राग अलापीये जी कोई और दूसरा
2-जी,3-जी का ना पहड़ा सुनाईये

by Ajay Kumar Adarsh

Comments (0)

There is no comment submitted by members.