देखते हैं लोग,

देखते हैं लोग,
चोरी-चोरी ही सही, छुप कर देखो या
दुनिया के सामने,
बात बस रहती एक ही।

by Dr. Navin Kumar Upadhyay

Comments (0)

There is no comment submitted by members.