जब से तेरे होठों को देखा

जब से तेरे होठों को देखा, मयखाने जाने छोड़ दिए।
हलक मिले न मिले, जाम देख कर जी लिए।।

by Dr. Navin Kumar Upadhyay

Comments (0)

There is no comment submitted by members.