योगी मुनि न धीर धरत,

योगी मुनि न धीर धरत,
जन जिय-हिय बेहाल करत,
सुर मुनि योगी ऋषि भी न बचत,
सुख कतहूँ अब कोऊ नहीं लहत।

User Rating: 5 / 5 ( 0 votes )

Comments (0)

There is no comment submitted by members.