मनसिज के भाव जागे,

मनसिज के भाव जागे,
सब कर मन राग पागे,
मुनि योगी धीर त्यागे,
चारों ओर प्रेम-राग पागे।

by Dr. Navin Kumar Upadhyay

Comments (0)

There is no comment submitted by members.