शुक पिक सारस सरस रव,

शुक पिक सारस सरस रव,
बिहँग मधुर मधुमय कलरव,
कछु न कहीं सोहात अब,
प्रियतम मोर मिलेंगे जल्द कब!

by Dr. Navin Kumar Upadhyay

Comments (0)

There is no comment submitted by members.