कैसे हौ तुम मेरे गुसे से भरे खुदा

कैसे हौ तुम मेरे गुसे से भरे खुदा
हमे तुम पयार करते हो और मार भी डालते हो
छुटी हमारी करते हो और मदद भी करते हो
मै भी एैसी बांते कऱंगा

मै करूंगा शिकातें और शुबाशी भी दूंगा
मै मारूंगा धुतकार और मान भी लूंगा
और खटे मीठे दिन जिंदगी भर
मै रोना पीटना करूंगा और पयार भी करूंगा

-रवी कोपरा

by Ravi Kopra

Comments (1)

I would appreciate if anybody would help me put my Hindi/Urdu poetry translations in the devangiri script. Please contact me by a private messsage through poemhunter. Thanks. Ravi Kopra Note: the poem above appeared at poemhunter by some poet and was translated from English into Hindi. I will mention the original author when I find the link.