अब तो हर शय मोहबत की

अब तो हर शय मोहब्बत की
तेरी याद दिला जाती है
तश्ना आँखों को
जामे अश्क़ पिला जाती है
ज़िक्र तेरा हो न हो
हो जाता है
बात तेरी दिले आलम को
रुला जाती है।

by Ahatisham Alam

Comments (0)

There is no comment submitted by members.