Poem Hunter
Poems
रैसुमै 08: आं नोँनो बान्था होगोन
(2 November 1995- / Amteka (Chirang) /Assam, India)

रैसुमै 08: आं नोँनो बान्था होगोन

Poem By Ronjoy Brahma

आं नोँनो बान्था होगोन
दान्दिसे सना गोजोन्नायजोँ
जदिय' (रैसुमै) नोँ लाजिस्लु थायो।
नोँ लाजिदोँ, मादि बुंगोन
आं मिथिया।
आं बान्था होगोन मिथिस्लाबै-
ख्रब आसि सिफायना सोदोब
आरोबाव ख्रब ख्रब ख्रब...।
बेलासि सुदेम बारा बिलिरगोन
सना नोँनि खानाया मोसागोन
आरोबाव मिनिस्लु नोँ लाजिगोन।
बोरै बुंगोन आं सना?
जुदि नोँनि सोँनाय मोनाब्ला,
आं मोजांल' मोनो
खालिबोल' मानिनाय गैयै आब्रा।
एसे सानथाव, आंनि अन्नाय
मोन्दांनाय नङा थौलेयै नोँ
नेर्सोनखौ बिदिन्थिखौ नोँ मोन्दांबाय
नाथाय सना, बुजियाखै।
मोनसे गोगो साननाय
नाथाय बेयो जेथो,
आं सानो, जुदि आं सोङो-
नोँ गुरै मादि फिनगोन थाय...
आं मोजांल' मोनो सिरियै
गुबुन गैया, गोरबोआव दा,
(रैसुमै) बेयो सान्नो गोनां।
लाजिनाया साग्लोबनाय फांथे
बेखौ आं मिथिगौ, नोँबो
आं हानाय नङा बुंनो
जुदि नोँ सोँनाय खालामा।
एब्रेबाय गासैबो नोँनि, आंनाव
आरो रिँबाय थायो खोमायाव
ख्रब ख्रब आसि सिफायनाय
नाथाय बेवहाय आंनि गैया
बेयाव आं गोजोना,
नोँखौ मोजां मोन्नाय
हास्थायना लुबैनाय, बेसो
बेयावनो आंनि दा गोजोना।

User Rating: 5 / 5 ( 0 votes )

Edgar Allan Poe

Annabel Lee

Comments (0)

There is no comment submitted by members.


Comments