Frozen Beauty

Splendour of a moonlit night
Lies frozen within reach.
In vacuum silence of desolate air
The mind can break its golden cage
And spread its flapping wings
The sky and stars, trees and earth
Will absorb all the steam
And bring us all within our fist.
We have a right to live everyday.
Let's open the chiller door
Make a drink and make up our mind,
Sip the beauty and spread ourselves.
That's the way to peace and heaven,
That's the way to live with self.

by Sumit Ganguly

Other poems of GANGULY (207)

Comments (5)

My Hindi Translation: रात को जब ये समंदर मुझे सहलाता है और सितारे टिम टिमाकर बुलाते हैं मै इन बड़ी चौड़ी लहरों पे लेट कर बस अपने आप में रहता हूँ सभी चिंताओं से मुक्त और प्यार में डूबा अकेले, अकेले बस समंदर पर लेता पूर्ण शांत वातावरण में, हज़ारों दीप के साथ अपने दोस्तों के बारे में सोच गुम हो जाता हूँ उस शांति में अकेले और एक सवाल पूछता हूँ: क्या अब भी तुम मेरे हो? क्या मेरा ग़म अब भी तुम्हारा है, और मेरी मौत क्या एक मौत है? क्या मेरा प्यार अब भी तुम्हे पीढ़ा देता है या सिर्फ कुछ साँसे है, और एक गूँजती ध्वनि? और ये समंदर मुझे चुपचाप देखता है और मुस्कुरा देता है: नहीं और कोई स्वागत नहीं और सभी ओर से उत्तर आने लगता है ….
Hermann Amazing poetic skills here
This is a wonderful piece. I just love it so much. Maybe at first view it conveys isolation, loss, sadness - but as a comment on the depth of ones inner self and the sometimes fleeting ways of the world's 'white noise' is incomparable...
My guess is that the last line contains a typographical error and should read: and no greeting and no answer comes from anywhere
This is one of my favorite poems of all time.. great addition thanks.