Man Ki Baat - A Hindi Poem

Albela sa main apni masti me rehta
Jo bhi ho mere man mein jhatt se keh deta
Accha lage tumko ya boora mano tum
Hai seedhi mere man ki baat bas itna jano tum

Man ke ghodon par nahi daali kabhi maine nakel
Par man ki baat kehna bhi nahi hai bacchon ka khel
Bacche hote to keh bhi lete seedhi spat baat
Par logon ne toh biccha rakhi hai man mein shatranji bisat

Nahi hota asaan apne man ki bat kehna
Chhod aadambar, saral aur sehaj rehna
Ahm ko hai marna padta baarmbaar
Krodh par bani rehti nazar lagaataar

Vyang, man ki baat kehna mein, hai bahut kaam aata
Hanste hanste baton baton mein sab kuch taal jaata
Kavi ka man hai, jo iss mein aayega so bolega
Laala ki dukan nahi ja har cheez pehle tolega

Accha lagtaa hai mujh ko mast man se rehna
Sam bhav se apne man ki baat kehna
Fir bhi ho jaatey hain kabhi kabhi log mujh se naraaz
Tabhi bola mera man likh de iss par bhi kavita aaj

अलबेला सा मैं अपनी मस्ती में रहता
जो भी हो मेरे मन में झट से कह देता ।
अच्छा लगे तुमको या बुरा मानो तुम
है सीधी मेरे मन की बात बस इतना जानो तुम ।।

मन के घोड़ों पर नहीं डाली कभी मैंने नकेल
पर मन की बात कहना भी नहीं है बच्चों का खेल ।
बच्चे होते तो कह भी लेते सीधी सपाट बात
पर लोगों ने तो बिछा रखी है मन में शतरंजी बिसात ।।

नहीं होता आसान अपने मन की बात कहना
छोड़ आडम्बर, सरल और सहज रहना |
अहं को है मरना पड़ता बारम्बार
क्रोध पर बनी रहती नज़र लगातार ।।

व्यंग, मन की बात कहने में, है बहुत काम आता
हँसते हँसते बातों बातों में सब कुछ टाल जाता ।
कवि का मन है, जो इसमें आएगा सो बोलेगा
लाला की दूकान नहीं जो हर चीज़ पहले तोलेगा ।।

अच्छा लगता है मुझको मस्त मन से रहना
सम भाव से अपने मन की बात कहना ।
फिर भी हो जाते हैं कभी कभी लोग मुझ से नाराज़
तभी बोला मेरा मन लिख दे इस पर भी कविता आज ।।

by Vikas Sharma

Comments (0)

There is no comment submitted by members.