मिला नहीं किनारा.. mila nahi kinara

Poem By Hasmukh Amathalal

मिला नहीं किनारा
में रह गया बेचारा
भटका में मारा मारा
बनके रह गया आवारा।

चाहा ना था जुदाई
पर हो गयी बिदाई
वो कहीं ओर और हम कहीं ओर!
ना उसने, ना मैंने मचाया थोड़ा सा भी शोर।

मान लिया कही गड़बड़ है
पर साथ में तर्क और बड़बड़ भी है
वो जिद्दी और अडिग रहते है
हम उन्हें देखकर दंग रह जाते है।

वो सूरज जैसे गरम है ओर जोशीले
तो में चाँद जैसा निर्मल और हँसता रहूँ होल होल
उनका पारा सातवे आसमान पर
में रहूँ शांत और जमीं पर।

लगा है धीरे से अपनापन
पर हरकत है जैसे बचपन
कोन आएगा मनाने बारबार
सपने टूटते रहेंगी अनेकबार।

फिर भी हम पहल करते रहेंगे
जब भी मीलेंगे कहते रहेंगे
'दूर रहना मंजूर नहीं'
पास रहना ही है सही।

चलो एक बार और आजमा लेते है
तक़दीर के पासे को उलटा देते है
तुम थोड़ा चलो हम भी चल देते है
हाथ में हाथ रखकर थोड़ा सा मुस्कुरा देते है।

मंज़िल भले ही पास नहीं
पर आस है अंदर से सही
'आप हमारे है और सदा रहेंगे'
मिलककर आगे बढ़ेंगे और सह भी लेंगे।

Comments about मिला नहीं किनारा.. mila nahi kinara

Virenderkumar Arya likes this. Virenderkumar Arya Purani yaad taja ho uthi aise sabad bano se 58 mins · Unlike · 1
Seen by 1 Keshav Kumar likes this. Keshav Kumar VERY NICE LINES SIR 2 mins · Unlike · 1
Durga Patva and 2 others like this. Hasmukh Mehta welcome Just now · Unlike · 1
Vaibhav Shingala likes this. Hasmukh Mehta welcome Just now · Unlike · 1
2 people like this. Hasmukh Mehta welcome kaushal bhojak n abhijit singh Just now · Unlike · 1


5,0 out of 5
1 total ratings

Other poems of AMATHALAL

Miss ', I Really Miss (101) /500 ###

I was stepping in to become young
I thought it is nice journey but too long
I am afraid and take care not to go wrong
I was expecting everything for song

All Dreams Not Come True ###309(In 500)

All dreams may not come true
All credits due may not accrue
But with true reflection in mind
Ideas newer and newer may emerge and find

A Place Called

place called “home” is to feel homely,
God’s creation standing by to look so lovely,
May be she is with all her elegance,
Everything for sure and no pretence,

Anywhere You Like

You suggested to me let us meet anywhere,

A place Where HE is not there,

Beauty

Learned poets have said “beauty is to enjoy”
Like fresh flowers always give you joy
Don’t attempt to pluck or destroy
Not to play with it as simple toy

All Hopes Against Hope

All hopes dash against hopes
It is like tight walking on simple ropes
We may counter stiff resistance at high slope
Bonding may not be possible even if you elope

Langston Hughes

Dreams