Kaise Kah Dun Ki Pyar Karta Hun ( Hindi/Urdu)

Kaise kah dun ki pyar karta hun
Tirchhii najaron se jo mai darta hu


Teri qadmon ki ye jo ahaT hai
Meri dhadkan ye teri chahat hai
Teri yadon me khoya rahta hun
Pal-pal jita hun aur marta hun
Kaise kah dun ki pyar karta hun
Tirchhii najaron se jo mai darta hu

Nind ankho se udi jati hai
Pri yadon ki pas aati hai
Hardam dil ko thame rahta hun
Tumse hai pyar chupke kahta hun
Kaise kah dun ki pyar karta hun
Tirchhii najaron se jo mai darta hu

Meri sanso se mere khyalo tak
Ek pahra hai duja hai dastak
Nahi auron se khud se ladta hun
Pyar karne se kyon mai darta hun
Kaise kah dun ki pyar karta hun
Tirchhii najaron se jo mai darta hu
.................
मैं डरता हूँ//आफ़ताब आलम

कैसे कह दूँ कि प्यार करता हूँ
तिरछी नजरों जो मैं डरता हूँ

तेरी कदमों कि ये जो आहट है
मेरी धड़कन ये तेरी चाहत है
तेरी यादों में खोया रहता हूँ
पल पल जीता हूँ और मरता हूँ
कैसे कह दूँ कि प्यार करता हूँ
तिरछी नजरों जो मैं डरता हूँ

नींद आँखो से उड़ी जाती है
परी यादों की पास आती है
हरदम दिल को थामे रहता हूँ
तुमसे है प्यार चुपके कहता हूँ
कैसे कह दूँ कि प्यार करता हूँ
तिरछी नजरों जो मैं डरता हूँ

मेरी साँसो से मेरे ख्वाबो तक
एक पहरा है दूजा है दस्तक
नहीं औरों से खुद से लड़ता हूँ
प्यार करने से क्यों मैं डरता हूँ
कैसे कह दूँ कि प्यार करता हूँ
तिरछी नजरों जो मैं डरता हूँ//
**********

by Aftab Alam

Comments (0)

There is no comment submitted by members.