वृक्ष की गुहार..Pain Of Tree

Poem By pushpa p. parjiea

ना काटो मुझे, मुझे भी दर्द होता है
ना काटो मुझे, मुझे भी दर्द होता है
क्यों बिना वजह लिटा रहे,
मृत्यु शय्या पर मुझे
मैं ही जन्म से मरण तक काम आया तेरे ऐ इंसा,
क्या वफादारी का अंजाम तू देता यूंही?
जिसने जिलाया, जिसने बचाया
उसे ही काटा तूने
जब आया धरती पर
सबसे पहलेलकड़ी से मेरी,
झूला बनाया तूने
मेरी छांव तले बचपन गुजारा था तूने
गिल्ली डंडा खेलकर बड़ा हुआ,
अब बनाया क्रिकेट बेट तूने
बादल बरसाए मैंने ही,
अन्न धन दिया मैंने ही तुझे
राजा बनकर बैठा मुझसे बनी कुर्सी पर,
और कई प्रपंच रचाए तूने
जब दिन तेरे पूरे हुए इस दुनिया में
तो, मेरी लकड़ी से चिता तक सजाई
तूने, नहीं कहता मान एहसान तू मेरा,
बस मांगू तुझसे इतना की रहम कर मुझपर
और आने वाली पीढ़ी के लिए बख्श दे तू मुझे
न मानी बात मेरी तो देखना कितना
तू पछताएगा हाहाकार करेगी धरती
और सारा संसार बिखर जाएगा

Comments about वृक्ष की गुहार..Pain Of Tree

This is very sensitive and thought provoking poem shared here. Cutting trees has brought ecological imbalance bringing us to deforestation and danger. A tree's appeal is beautifully presented in this very well penned poem for awareness. Thanks for sharing this poem with us....10


5,0 out of 5
1 total ratings

Other poems of PARJIEA

Tufan Ye Jivan Ke

aate hain tufan par thaharate nahi


akar chale jate hain par us barbadi se tu darna nahi

Sukhi Patti Hari Patti

Sundar hai syaahi(ink)  teri ya sundar mere ye alfaz hain

Teri srishti ki sundrata mere eshware badi hi bemishal hai 

Ye Savan

Badal barse savan me..

Dharti odhe hari chadariya

प्रकृति के सानिध्य से

वो गुनगुनाती सी हवाएं
दिल को बहलाते जाएँ

करे हैं मन की अब

Nishtabdh Nisha

निशब्द, निशांत, नीरव, अंधकार की निशा में
कुछ शब्द बनकर मन में आ जाए,
जब हृदय की इस सृष्टि पर
एक विहंगम दृष्टि कर जा

Maya Angelou

Caged Bird