प्यार ही बस प्यार Pyar

प्यार ही बस प्यार

इंसान है इंसानियत को सम्हालते चले
एक दूसरे के गले से मिलते चले
ना जाने राह कब ख़त्म हो जाए
एक दूसरेको समझ ने का वक्त ही न मिल पाए।

प्यार ही एक पर्याय है
सब दुःखोंका एक ही उपाय है
हमारे पास समय तो है
पर समझना किसको है?

एक दूसरे का दुःख बाटने से ही समय निकलेगा
सदाकाल तुम्हारा नाम गूंजता रहेगा
वैसे ये देह नश्वर है
सही मार्ग तो ईश्वर का है।

ना जाया करे हम अपना ये अमुल्य जीवन
रखे इंसानी मूल्यों को सजीवन
कारवाँ तो चलता रहेगा
बस आपका नाम ही याद रहेगा।

ना करो किसी की बुराई
बन के रहो किसी की परछाई
हमदर्दी ही सब दुखों का इलाज है
भाईचारा ही हमारे झझबात है

प्यार ही बस प्यार
और ना हो कोई आविष्कार
सब का है अधिकार
"सुख से रहो और सुखी रेहनेदो" यही हो पुकार।

by Hasmukhlal Amathalallal

Comments (1)

प्यार ही बस प्यार इंसान है इंसानियत को सम्हालते चले एक दूसरे के गले से मिलते चले ना जाने राह कब ख़त्म हो जाए एक दूसरेको समझ ने का वक्त ही न मिल पाए। प्यार ही एक पर्याय है सब दुःखोंका एक ही उपाय है हमारे पास समय तो है पर समझना किसको है? एक दूसरे का दुःख बाटने से ही समय निकलेगा सदाकाल तुम्हारा नाम गूंजता रहेगा वैसे ये देह नश्वर है सही मार्ग तो ईश्वर का है। प्यार ही बस प्यार और ना हो कोई आविष्कार सब का है अधिकार सुख से रहो और सुखी रेहनेदो यही हो पुकार।