Poem Hunter
Poems
किसको कहूँ ये बात मगर, वो मैं नहीं मेरे हमसफ़र
(1783 - 1872 / Denmark)

किसको कहूँ ये बात मगर, वो मैं नहीं मेरे हमसफ़र

Poem By Priya Guru

User Rating: 5,0 / 5 ( 1 votes )

Pablo Neruda

If You Forget Me