मजदूर

लड़ता है मजदूर अपने हालात से
दो जून की रोटी के लिए
रोता है छुप-छुप कर
सुला देता है अपने बच्चों को
ये कहकर सो जाओ जल्दी से
सपने में आता है मसीहा
घी से चुपड़ी हुई रोटी लेकर

राज स्वामी

#मजदूरदिवस
#मजदूर
#अंतरराष्ट्रीयमजदूरदिवस

by Raj Swami

Comments (0)

There is no comment submitted by members.