Poem Hunter
Poems
तुझे डर है
(17 September 1883 – 4 March 1963 / New Jersey)

तुझे डर है

तुझे खुदा समझूँ तोह तुझे डर है
इश्क़ अगर समझूँ तो भी तुझे डर है
मैं इन्सां भी समझूँ, फिर भी तोह तुझे डर है
अब भला! तू ही बता, यूँ कैसे छोड़ दूँ तुझे
पागल! ज़रा देख तुझे कितना डर है

User Rating: 5 / 5 ( 0 votes )

Robert Frost

Stopping By Woods On A Snowy Evening

Comments (0)

There is no comment submitted by members.