Ye Jindagi Badi Ajeeb Hoti Hai

Poem By pushpa p. parjiea

ye jindagi
Jindagi bhi badi ajeeb hoti hai...........

जिंदगी भी बड़ी अजीब होती है

kisi ko khushi kisi ko gham deti hai........

किसी को ख़ुशी किसी को ग़म देती है

kahin dukh me bhi jindagi muskurati hai.........

कहीं दुःख में भी जिंदगी मुस्कुराती है

kaahi sukh ke sagar me bhi jindagi aansoo bahati hai...

कहीं सुख के सागर में भी जिंदगी आंसू बहाती है

kahin hai parayo ke diye zakhm, to kahi aapno se ye jindagi satai hai.....

कहीं है परायों के दिए जख्म, तो कही अपनों से ये जिंदगी सताई है

jindagi, kahi dukhate dil ke sath khush hai, to kahin, khushi ke sath dukhte dil bhi hain
जिंदगी कहीं दुखते दिल के साथ खुश है तो कही, ख़ुशी के साथ दुखते दिल भी हैं

kahi hain duwaon ki bauchharen to kahin hai badduvaon ke khanjr

कहीं है दुवाओं की बौछारें तो कहीं है बद दुवाओं के खंजर.

jindagi kahin hai meetha ghunt to kahi hai kadva sa jahar

जिंदगी कही है मीठा घूंट तो कही है कडवा सा जहर

jindagi kahin tujhe hume hans ke sajana hai to jindagi kahin hume tujhe rokar bhi nibhana hai...

जिंदगी कही तुझे हमे हंस के सजाना है , तो कहीं हमे तुझे रोकर भी निभाना है

zakhmon ke gahare dhabbon par lagati tu kabhi surkh syahi hai...........

जख्मो के गहरे धब्बों पे लगाती तू कभी सुर्ख स्याही

kabhi deti hai tu etani khushiyan ki bhul jate insa tere diye sare gham

कभी देती है तू इतनी खुशियाँ की भूल जाते इंसा तेरे दिए सारे ग़म

parkyon eisi kahani teri aie jindagi ki pichhale gamo ki yaad tu fir dilati hai

पर क्यों एईसी कहानी तेरी इए जिंदगी की पिछले गमो की याद तू फिर भी दिलाती है

kub tak? jiye marr marr kar man bhi insano ka? kyu harpal baharon kefull nahi khilati hai
कब तक जियें मर मर कर मन भी इंसानों का क्यों हर पल बहारों के फूल नहीं खिलाती है

ab bata de jindagi insa ko jivan bhar sirf khushiyan dene ka wada karti hai.
अब बता दे जिंदगी इंसा को जीवन भर सिर्फ खुशियाँ देने का वादा करती है?

Comments about Ye Jindagi Badi Ajeeb Hoti Hai

your poem in English translation here - https: //www.poemhunter.com/poem/life-is-strange-5/


5 out of 5
0 total ratings

Other poems of PARJIEA

Tufan Ye Jivan Ke

aate hain tufan par thaharate nahi


akar chale jate hain par us barbadi se tu darna nahi

Sukhi Patti Hari Patti

Sundar hai syaahi(ink)  teri ya sundar mere ye alfaz hain

Teri srishti ki sundrata mere eshware badi hi bemishal hai 

Ye Savan

Badal barse savan me..

Dharti odhe hari chadariya

प्रकृति के सानिध्य से

वो गुनगुनाती सी हवाएं
दिल को बहलाते जाएँ

करे हैं मन की अब

वृक्ष की गुहार..Pain Of Tree

ना काटो मुझे, मुझे भी दर्द होता है
ना काटो मुझे, मुझे भी दर्द होता है
क्यों बिना वजह लिटा रहे,
मृत्यु शय्या पर मुझे

Nishtabdh Nisha

निशब्द, निशांत, नीरव, अंधकार की निशा में
कुछ शब्द बनकर मन में आ जाए,
जब हृदय की इस सृष्टि पर
एक विहंगम दृष्टि कर जा

Robert Frost

Stopping By Woods On A Snowy Evening