RP RACHNA PAL 20.05.1998

Quotes (1)

कुछ तो अलग सा था उसमे....... सुखी पड़ी आँखों की इस बंजर जमीन को वो हमेशा के लिए बहती नदी सा बना गया।
शायरी

Comments (0)

There is no comment submitted by members.